तुम तकल्लुफ़ को भी इख़…

तुम तकल्लुफ़ को भी इख़लास समझते हो, ‘फ़राज़’
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला

तक़ल्लुफ़ formality
इखलास sincerity

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *