ऐब भी बहुत हैं मुझ…

“ऐब” भी बहुत हैं मुझमें, और “खूबियां” भी।

ढूँढने वाले तू सोच, तुझे चाहिए क्या मुझमें ! !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *