खामोशी से भी नेक काम…

खामोशी से भी
नेक काम होते हैं…

मैंने देखा है पेङों को,
सुकून से भरी छाँव देते हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *