बस एक ख़ौफ़ में होती…

बस एक ख़ौफ़ में होती है हर सहर मेरी,
निशान-ए-ख़्वाब कहीं आँख पर न रह जा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *