इतना क्यों सिखाए जा …

इतना क्यों सिखाए जा रही हो ज़िन्दगी…

हमें कौन सी सदियाँ गुज़ारनी है यहाँ…!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *