शर्त लगी थी खुशीयों …

शर्त लगी थी खुशीयों को
एक लफ्ज़ मे लिखने की….

वो किताबे ढुँढते रह गये,

मैंने “दोस्त” लिख दिया….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *