अभी काँच हूँ, इसलिए…

अभी काँच हूँ, इसलिए चुभता हूँ,

आइना बन जाऊँगा, पूरी दुनियाँ देखेगी ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *