हुनर क्या था, क्या प…

हुनर क्या था,
क्या पता उसकी बातों में……

उसने काग़ज़ पर बारिश लिखा..
…….और हम यहाँ भीग गए…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *