ये नजर-नजर की बात है…

ये नजर-नजर की बात है,
कि किसे क्या तलाश है…
तू हंसने को बेताब है,
मुझे तेरी मुस्कुराहटों की ही प्यास हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *