उनकी ज़ुबां से हम इक…

उनकी ज़ुबां से हम इक लबज़ सुनने को तरस गए
होठ खुले तो मगर अल्फाज़ आँखों से बरस गए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *