मुख़्तसर सा गुरूर ज़…

मुख़्तसर सा गुरूर ज़रूरी है, जीने के लिये….

ज्यादा झुकने पर, पीठ पायदान बन जाती है….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *