वाह री किस्मत, कहाँ …

वाह री किस्मत, कहाँ मंजिल-ए-मकसूद मिली
अब मजा देने लगे हैं, पांव के छाले मुझको

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *