कितना भी समेट लो.., …

कितना भी समेट लो..,
हाथों से फिसलता जरूर है…!

ये वक्त है साहब..,
बदलता जरूर है…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *