ख़ुशी जल्दी में थी र…

ख़ुशी जल्दी में थी रुकी नहीं
ग़म फुरसत में थे – ठहर गए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *