सहम सी गयी है ख्वाहि…

सहम सी गयी है ख्वाहिशें…

जरूरतों’ ने शायद उनसे ऊँची आवाज़ में बात की होगी….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *