ऐ दोस्त, तू मुझे गुन…

ऐ दोस्त, तू मुझे गुनहगार साबित करने की ज़हमत ना उठा,
बस ये बता क्या-क्या कुबूल करना है, जिससे दोस्ती बनी रहे…….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *