शायरों की बस्ती में …

शायरों की बस्ती में कदम रखा तो जाना,
गमों की महफिल भी कमाल जमती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *