b syam reddy

वो कमीने लोग जो दूसरो की गुप्त खामियों को उजागर करते हुए फिरते है, उसी तरह नष्ट हो जाते है जिस तरह कोई साप चीटियों के टीलों में जा कर मर जाता है.- आचार्य चाणक्य
http://play.google.com/store/apps/details?id=com.chanakya.hindi
b symred