अनाथ

सब कुछ होते हुए, आज अपने आप को अनाथ बताना पड़ गया… दिल मे सबके लिए जो भी जगह थी आज वो वक़्त के साथ सब मिट्टी के जैसे धूल गई