वो लम्हें ।

जिंदगी के कुछ लम्हें ही तेरे साथ जिये,
पर उन लम्हों में अपनी जिंदगी से ज्यादा जी गया ।

tera ishq

उससे कितनी मोहबत थी आज पता चला की,
बरसो बाद भी आज सपने में उसका चेहरा हूबहू बन गया ।