अब्र घनेरे रात नशीली…

अब्र घनेरे रात नशीली नज़रों के पैमाने हों ,
ऐसे में फिर दौर चलें मख़मूर ज़रा मैख़ाने हों

शबनम जैसी नई उम्मीदें दर्द-ए-दिल पे जा बैठें,
सहराओं में ग़ुंचे चटकें सारे ज़ख़्म पुराने हों

तेज़ हवा में बर्क़ के ग़म्ज़े ऐसे शोले भड़काएँ,
इश्क़ की ताब में जलने को बेताब यहाँ परवाने हों

सात समंदर पार भी यूँ आएँ सदाएँ अपनो की,
राहें चाहें अंजानी हों जज़्बे जाने पहचाने हों

कोई फ़ासला कोई अना रोके से ना रोक सके ,
एक जुदाई के आगे मिलने के लाख बहाने हों

मैख़ानों के क़िस्सों में जब मय-नोशों की बातें हों,
एक हक़ीक़त हम-ओ-तुम बाक़ी सब अफ़्साने हों

एक नज़र की बात पे आकर साक़ी रात ये ठहरी है,
हो करम तिरा तो मुफ़लिस* के कुछ तो ठौर ठिकाने हों

मिल के आओ जाम उठाएँ चश्म-ए-मय के नाम का हम,
मय-ख़्वारी के दम से ही आबाद यहाँ वीराने हों

इन नज़रों की मस्त ख़ुमारी ‘दिल’बरम’ तू छलकाए जा,
जाम-ओ-सुबू साग़र-ओ-मीना भर भर के दीवाने हों

Full of mirth, manna…

Full of mirth, manna from heaven, pure and oh! so lofty
Neither riches, nor power can mar, for, true love is ever free…

Whispering, cajoling softly oh so subtly encouraging…
Presenting wings, standing by, true and undemanding…

A million lives for selfless love’s one oh! so tiny moment…
A million breaths for one perfect pristine sentiment…

Every struggle, every torment of hades oh! so agonizing…
For the elixir of love – eternally healing and tranquillizing…

Testimony of a silent observer

I saw rivers run clean and streams of kindness from hearts flow
I witnessed distrust, doubts, pettiness and feelings shallow
But for every sad doubtful one, I saw manifold ones so kind
I saw humanity spring and surge – a pure soul, heart and mind!

I saw birds fly, and thoughts clear, unbound and free
I saw trappings too, of dogma and divisions of society
But for every shackle, I saw many boundaries broken
I saw freedom, harmony ricochet lucid and awoken!!

I saw the forests grow – the mirth of budding innocence…
A new awakening, of thoughts and of ideas a congruence
I saw a new bright dawn in majestic Gaia’s Life story!!
I saw renaissance anew, in its eternal splendour and glory!!