दोस्ती

बचपन की वो यादे
अब कहा से लाए हम
छुट गये वो साथी
अब कहा से बुलाए हम
जिनके साथ खेले कूदे
अब वो दिन कहा से लाए हम
छूट गया वो साथ अपना
अब वो साथ कहा से लाए हम
ना वो बचपन ना वो यार
रूठ गया वो सब कुछ अपना
अब उन दिनो को कहा से लाए हम
बचपन की वो यादे
अब कहा से लाए हम

         नेहा......??.......??

happy womens day

happy womens day

when you were kid you look so cute
when you become girl you play with your friends
when you become teenage you made decorative diaries
when your marriage will happen you have to make variety of reciepes
when you become old your hobbies will become
time pass for you.

Overcome your demons

I chased the devil to fight my battle
Around my soul i could feel an angel
I had lost hopes to spark my candle
For my fears i discovered a channel
I chose this path,my thoughts got crinkled
My body felt as i am standing while it dribbled
I thought for a while how i could be so blissful
For this blessing to last i was ready to be deferential
Capture my soul and i ll be faithful
Hold my dreams and i ll be fateful
I ll sleep at ease as i heard a jangle
I found my heart balm all at a once
This feeling is just too mirthful
And my soul feels as in a muffle

taufa

jab nakam hue the ek baar,
zindagi ke race me.
tab behen ne hi sambhala tha,
maa ke bhes me.
jab tuta tha dil humara,
aur chaknachur hua tha.
tab rota dekh bhai ne hume,
hal-ae-dil jaan liya tha.
jab tasvir vo humse tuti thi,
jo papa ko jaan se pyaari thi.
unhone gusse me hath uthaya tha,
tab maa ne gale se lagaya tha.
jab zid kar baithe the hum 1 khilone ke liye,
tab maa ne bht samjhaya tha.
rota dekh hume uske liye,
papa ne hume vo dilaya tha.
chota hone ki wajh se,
hume pyaar to bht mila hai.
aisa lagta hai jaise humare,
ache karmo ka taufa ? hai.

???

A dohe

दिल को दिल से मेल है ❤

तन को तन से मोह?

मिठी में मिल जाएगा तन?

जप लो राम नाम अमोल?

      ?❤?

खाकी तुझे सलाम

ख़ाकी तुझे सलाम
बडे नाम सुने थे तुम्हारे, कहीं पोलिसवाले गुंडे तो कहीं वर्दीवाले गुंडे
पर जब आई संकट की बेला
तब रूबरू हमने तुमको देखा
जोखिमों से भरी राहों मे कैसे ढाल बने हमारे बीच खड़े हो कहीं संतरी तो कहीं रात के प्रहरी बने खड़े हो
ना परवाह है खुद की ना परवाह है अपनों की बस परवाह है तो बस हमारी सुरक्षा की
कर हमें घरों मे कैद
तुम हर वार झेलने बाहर खड़े हो
ज़ब आती है बात हमारी सुरक्षा की तो कहीं गर्मी तो कहीं नरमी की नीति अपनाकर
कहीं हाथ जोड़कर तो कहीं डंडा दिखाकर हर पल तैनात खड़े हो
जिस देश मे हो तुम जैसे कर्मवीर योद्धा
उस देश मे कोरोना तो क्या यम की टोली भी टिक ना पायेगी, देख तुम कर्मवीरों को संकट के यह बादल भी छट जायेंगे
बस जरुरत है तुम्हारे हिदायतो को अपनाने की, घर मे रहकर ही साथ निभाने की
हे कर्मवीर योद्धा तुझे हमारा वारंवार सलाम वारंवार सलाम जय हिन्द जय भारत

सत्य।

हर पुत्र राम नहीं होता शब पति राम नहीं होते
‌‌ हर पत्नी सिता नहीं होती
शब भाई लक्ष्मण और भरत नहीं होते
ऐ कलयुग है यहां कोई किसी का नहीं होता।