Power of Sun

Sun is source of Light & Energy,
Come Out of Darkness ,
Give Light & Energy to Body & Mind ,
To get Brightness through out the Life.

Overcome your demons

I chased the devil to fight my battle
Around my soul i could feel an angel
I had lost hopes to spark my candle
For my fears i discovered a channel
I chose this path,my thoughts got crinkled
My body felt as i am standing while it dribbled
I thought for a while how i could be so blissful
For this blessing to last i was ready to be deferential
Capture my soul and i ll be faithful
Hold my dreams and i ll be fateful
I ll sleep at ease as i heard a jangle
I found my heart balm all at a once
This feeling is just too mirthful
And my soul feels as in a muffle

बस कुछ दिन की त…

कुछ दिन की तो है बात, महफिल की ऐसी की तैसी।
होगी फिर जल्दी मुलाकात, तन्हाई की ऐसी की तैसी

दवा है फासला जब तो, जिद मिलने की करते क्यों
रहो बस घर में हो आबाद, कोरोना की ऐसी की तैसी

परख लो ज्ञान गीता का, समझ के कुरान की अजमत
करो न मजहब को बदनाम, ठेकेदारों की ऐसी की तैसी

सुनी तकरीर बहुतों की, फैसला फिर यह किया हमने
सुनो बस दिल की आवाज, खबरों की ऐसी की तैसी

तंदुरुस्ती से बड़ी कोई, मिल्कियत हो नहीं सकती
होगी फिर पैसों की बरसात, डीए की ऐसी की तैसी

तरीके और भी सीखो, समझकर ताकतें अपनी
तैरकर दरिया कर लो पार, कश्ती की ऐसी की तैसी

……….राम स्वरूप गंगवार

laal tere bharat kei

“laal tere bharat k”
Laal tere bharat k sarhad pe khda huey
Kya fikrh tujhey h watan meri
Sar humarey na kabhi jhuke huey
So ja tu befirkri ki nind
laal tere abhi jaghey huey

Ha vardhi humari kavach kundal
jhukegi kabhi na teri gardan
Hai Keshri mukhut jiska
Hai rang hara hariyali ka
Hai tilak chakra sa saja jha
Sandesh shanti ka rang suvet suna rha

Hai desh vo mera jagat mei roshan
Jb thama tiranga hatho mei ..
Dekh usey mei itra rha…
Peet kbhi na dikhyengey hum
seena apna majboot bada
Ek ma meri jo ghar pr bhti
Dekh raha pukar rhi
Koi kh de us sei ab laal tera hua us ma bharti ka
Jo dushman ko bhaga rha
Hai roop mere teen
Yau, jal, bhumi sub miley huey
Fir kbhi Na hogi duropadi lajjit
Krisna baney hum khadey huey

……….gaurav_sharma……….

प्यारे दादाजी

उंगली पकड़कर चलना सिखाया हमको ।
आपने लोरी सुनाकर सुलाया हमको।।
वो दिन याद आते है,जब हम आपकी गोदी में खेलते थे।
और आप हमको खुश रखने के लिए कभी कचोरी तो कभी समोसे बेलते थे।।
खाना भी आपने खिलाया हमको।
खुद ने नहीं खाया उससे पहले लोरी सुनाकर सुलाया हमको।।
बड़े होते होते पता ही नहीं लगा आपके साथ।
बचपन में बहुत दिया आपने हमारा हाथ।।
मम्मी पापा की डाट से बचाया हमको।
कभी खुद के हाथो से खिलाया हमको।।
हम जो आज बड़े हो सके उसमे आप का हाथ भी है जरूर ।
एक आप ही तो देते हो हमें शिक्षा भरपूर।।
लोगो से सही तरह से बोलना सिखाया हमको।
सही राह पर आगे बढ़ाया हमको।।
आपने हमको बोलना चलना सिखाया है सेल्फ।
लेकिन वो लोग भूल गए ,जिनकी पहले करी थी आपने बहुत हेल्प।।
आपने भगवान की पूजा करी और आजतक नहीं किया कोई पाप।
और भगवान से विनती है मेरी जल्दी ठीक हो जाओ आप।।
हस्ते रहे आप हमेशा करोड़ों के बीच ।
खिलते रहे आप लाखो के बीच।।
रोशन रहे आप हजारों के बीच।
जैसे रहता है सूरज आसमान के बीच।।
जल्दी से आप अपने पैरों से खड़े होकर चलिए।
यही कामना है मेरी भगवान से आपके लिए।।?
Agreem Sethi

Morning Breeze Mild…

Morning Breeze

Mild Cool Breeze Blowing in Morning Hour ,
Creates a Magical Feeling , Touches the Heart,
As If , I in the Midst of Many Flowers & Buds , Fresh & Positve Energy Flowing in my Blood.